सुनील भारती मित्तल

टेलिकॉम कंपनी भारती एयरटेल (एयरटेल) के चेयरमैन सुनील मित्तल (सुनील भारती मित्तल) का कहना है कि अभी मोबाइल सेवा की बिक्री कस्टम नहीं हैं।

नई दिल्ली। टेलिकॉम कंपनी भारती एयरटेल (एयरटेल) के चेयरमैन सुनील मित्तल (सुनील भारती मित्तल) का कहना है कि अभी मोबाइल सेवा की बिक्री कस्टम नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मौजूदा दरों पर बाजार में बने रहना मुश्किल है, इसलिए दरों में वृद्धि जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस बारे में कोई निर्णय लेने से पहले बाजार की परिस्थितियों को देखा जाएगा।

दरों में वृद्धि होनी चाहिए
अगली पीढ़ी के 5 जी नेटवर्क में चीन की दूरसंचार उपकरण मैन्युफैक्चरर्स को भागीदारी की मंजूरी मिलेगी या नहीं, इस बारे में अक्सर पूछे जाने वाले मित्तल ने कहा कि बड़ा सवाल देश के निर्णय का है। देश जो भी निर्णय लेगा, हर कोई उसे स्वीकार नहीं करेगा। उन्होंने कहा, जहां तक ​​दूरसंचार सेवा की दरों का सवाल है, कंपनी ने (एयरटेल ने) इस बारे में अपना रुख स्पष्ट कर दिया है। एयरटेल फर्म से यह मानती है कि दरों में वृद्धि की जानी चाहिए।

मौजूदा अवलोकन योग्य नहींमित्तल ने कहा, ” मौजूदा बिक्री योग्य नहीं हैं, लेकिन एयरटेल बिना बाजार के या मार्केटिंग के कदम उठाए खुद से पहल नहीं कर सकती है। उद्योग जगत को एक समय पर आपूर्ति बढ़ाने की जरूरत होगी। हमें ऐसा करते समय बाजार की परिस्थितियों को देखना होगा। ” दरअसल, मित्तल से यह पूछा गया था कि भारतीय बाजार में दूरसंचार सेवाओं की आपूर्ति बढ़ाने के लिए क्या समय अपरिहार्य लगता है और क्या एयरटेल इस दिशा में पहल करेंगे या कंपनियों के कदम उठाने का। की इंतजार करेंगे?

160 रुपये में एक महीने के लिए 16 जीबी डेटा देना त्रासदी

उल्लेखनीय है कि मित्तल ने इस साल अगस्त में इस बारे में टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था कि 160 रुपये में एक महीने के लिए 16 जीबी डेटा देना त्रासदी है। कंपनी का कहना है कि टिकाऊ कारोबार के लिए प्रत्येक ग्राहक औसत राजस्व को पहले 200 रुपये और धीरे-धीरे 300 रुपये तक पहुंचना चाहिए। सितंबर तिमाही में भारतीयों एयरटेल का प्रति ग्राहक औसत राजस्व (एआरपीयू) 162 रुपये था। इससे राजस्व पहले जून, 2020 तिमाही में 128 रुपये और जून, 2019 तिमाही में 157 रुपये रहा।

दूरसंचार क्षेत्र अधिक पूंजी लगाने की जरूरत है
मित्तल ने एक बार फिर से दूरसंचार क्षेत्र में कर की ऊंची दरों और अधिक उपभोक्ताओं की बात स्पलाई। उन्होंने कहा कि दूरसंचार क्षेत्र अधिक पूंजी लगाने की जरूरत वाला क्षेत्र है। नेटवर्क, स्पेक्ट्रम, टॉवर और प्रौद्योगिकी में लगातार निवेश करते रहने की जरूरत होती है।



Supply hyperlink

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *