प्रथम पंक्ति में सोने का किरा 57 प्रति घंटा है।

सोने का आयात: चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सोने का आयात घटकर लगभग 6.eight अरब डॉलर रह गया है। भारत में हर साल 800 से 900 टन सोने का आयात होता है।

मुंबई। वाणिज्य मिनिस्ट्री (वाणिज्य मंत्रालय) के जारी डेटा के मुताबिक, सोने का आयात (गोल्ड आयात) करेंट फिस्कल ईयर की पहली सेल (अप्रैल-सितंबर) में 57 प्रति घटकर 6.eight अरब डॉलर पर आ गया है। कोरोना महामारी के बीच मांग के गिरावट के कारण सोने के आयात में कमी आई है। बता दें कि सोने का कच्चा देश के चालू खाते के खाते (चालू खाता घाटा -सीएडी) पर असर पड़ता है।

पहली सेल में 15.eight अरब डॉलर की कीमत के सोने का आयात
पिछले फिस्कल ईयर की पहली सेल में देश में 15.eight अरब डॉलर या 1,10,259 करोड़ रुपये की सोने (गोल्ड) का आयात हुआ था। इस साल अप्रैल-सितंबर के दौरान चांदी का आयात भी 63.four प्रति घटकर 73.35 करोड़ डॉलर रहा। सोने और चांदी के आयात (आयात) में कमी से देश का चालू खाते का घाटा कम हुआ है।

बता दें कि पुनरारंभ और एक्स में जो अंतर आता है, उसे ही चालू खाता घाटा (सीएडी) कहते हैं। अप्रैल-सितंबर में CAD घटकर 23.44 अरब डॉलर रह गया, जो इससे पिछले फिस्कल ईयर की इसी अवधि में 88.92 अरब डॉलर रहा।यह भी पढ़ें: जानें कौन हैं जेट एयरवेज के नए मालिक मुरारी लाल जालान और कालरॉक कैपिटल, बंद पड़ी एयरलाइंस को करेंगे नई उड़ान

भारत में हर साल 9 हजार टन तक सोने का आयात होता है

दुनिया भर में जितने भी देश सोने का आयात करते हैं, उन बड़े देशों में भारत भी शामिल है। भारत वर्ष भर में लगभग 800 से 900 टन सोने का आयात करता है। जुलारी उद्योग (आभूषण उद्योग) की मांग को पूरा करने के लिए सबसे अधिक सोने का आयात किया जाता है। करेंट फिस्कल ईयर की पहली सेल में रत्न (रत्न) और ज्वेलरी का एक्स (निर्यात) 55 प्रति घटकर eight.7 मिलियन डॉलर रहा।



Supply hyperlink

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *