अब यूएई के मुरारी लाल जालान और ब्रिटेन की कालरॉक कैपिटल का कंसोर्टियम बंद पड़ी जेट एयरवेज को उड़ान भरने के लिए।

ब्रिटेन की कालरॉक कैपिटल (कलॉक कैपिटल) और संज्ञा अरब अमीरात के मुरारी लाल जालान (मुरारी लाल जालान) का कंसोर्टियम नरेश गोयल की एयरलाइंस जेट एयरवेज (जेट एयरवेज) का नया बॉस होगा। जेट एयरवेज को कर्ज देने वाली क्रेडिटर्स कमेटी (लेनदारों / सीओसी की समिति) ने इसके लिए मंजूरी दे दी है। आईए जानते हैं कि कौन हैं मुरारी लाल जालान और कालरॉक कैपिटल …

  • Information18Hindi
  • आखरी अपडेट:18 अक्टूबर, 2020, 2:12 PM IST

नई दिल्ली। ब्रिटेन की कालरॉक कैपिटल (कलर्क कैपिटल) और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के उद्यमी मुरारी लाल जालान (मुरारी लाल जालान) कंसोर्टियम जेट एयरवेज (जेट एयरवेज) की नई बॉस बन गई है। जेट एयरवेज को कर्ज देने वाली क्रेडिटर्स कमेटी (लेनदारों / सीओसी की समिति) ने इसके लिए मंजूरी दे दी है। करीब एक साल पहले फंड्स की गंभीर समस्या के कारण जेट एयरवेज को बंद करना पड़ा था। ई-वोटिंग के जरिये मुरारीलाल जालान और फ्लोरिएन फ्रिट्श (फ्लोरियन फ्रिट्च) कायर्योलूशन प्लान 17 अक्टूबर 2020 को मंजूर कर लिया गया। बता दें कि जेट एयरवेज की स्थापना नरेश गोयल ने की थी।

यूएई के जालान का एविएशन सेक्टर में निवेश का पहला अनुभव है
यूएई के मुरारी लाल जालान एमजे डेवलपर्स कंपनी के मालिक हैं। उन्हें उसने परिवार के पेपर कारोबार से शुरुआत की थी। उनके पास जेके पेपर और बल्लारपुर इंडिस्ट्रीज के लिए भी काम किया गया था। उन्हें असली डॉलर, माइनिंग, शनिवार, कंस्ट्रक्शन, एफएमसीजी, तिमाही और टूरिज्म और इंडस्ट्रियल वर्क्स जैसे सेक्टर्स में निवेश किया गया है। जालान ने यूएई, भारत, रूस और उज्बेकिस्तान सहित कई देशों में अलग-अलग सेक्टर्स में मोटा पैसा लगाया है। इस समय उनकी कंपनी कंपनी उज्बेबेकिस्तान में रेजीडेंशियल और कमर्शियल नेटवर्कटट्स बना रही है। इसके अलावा जालान हेल्‍थकेयर सेक्‍टर से भी जुड़े हुए हैं। एविएशन सेक्टर में ये उनका पहला अनुभव है।

ये भी पढ़ें- आपकी एक गलती रोक सकती है पीएम-किसान स्कीम के 6000 रुपये, 47 लाख किसानों की पेमेंट रुकीकालरॉक कैपिटल 20 साल से कई सेक्टर्स में कर रहा है निवेश

कालरॉक कैपिटल यूके में लंदन की फाइनेंशियल एडवाइरी और अल्टरनेटिव एसेट मैनेजमेंट से जुड़े व्यवसाय करते हैं। यह कंपनी मुख्य तौर पर असली कपड़ा और वेंचर कैपिटल से जुड़ी है। इस कंपनी का वित पोषण पोषण फ्लोरियन फ्रिट्श से हासिल होता है। कालरॉक कैपिटल की वेबसाइट पर दी जानकारी के मुताबिक, कंपनी करीब 20 साल से अल् -टरनेटिव एसेट टलास में बतौर प्रिंसिपल इंवेस्टर और को-इंवेस्टमेंट सिंडिकेट के तौर पर निवेश कर रही है। ये कंपनी टेस्ला के मालिकों की एक रही है। इसके अलावा कंपनी ने ऑल डे हो होर्मस, बियॉन्ड लिमिट, बायोटिस्ट और डिलिवरी हर तरह की कंपनियों में निवेश किया है।

यह भी पढ़ें: बीमा योजना: सिर्फ 2.5 प्रतिशत प्रीमियम देने से 40,000 रुपये का मुआवजा मिलेगा

‘घरेलू से शुरुआत कर रही है और उड़ान भी शुरू होगी कंपनी’
कालरॉक कैपिटल के बोर्ड मेंबर मनोज मदनानी ने कहा कि कोरोनावायरस बीमारी हमेशा नहीं रहेगी। एक बार ये खेदम हो जाएगा तो उविशन सेक्टर तेजी से आगे बढ़ेगा। हमारी योजना है कि जेट एयरवेज फुल-सर्विसलाइन में तब्‍दील की होनी चाहिए। इसलिए हम डॉमेस्टिक फ्लाइट्स से शुरुआत करेंगे और शलॉट मिलने पर नए फ्लाइट्स भी शुरू करेंगे। बता दें कि जेट एयरवेज को दो कंसोर्टियम से बोलियां मिली थीं। इनमें से एक यूके बेस्ड कालरॉक कैपिटल और यूएई के उद्यमी मुरारी लाल जालान का कंसोर्टियम था। वहीं, दूसरी ओर हरियाणा की फ्लाइट सिमुलेशन टेक्निक सेंटर (FSTC), मुंबई के बिग चार्टर और अबू धाबी की इंपीरियल कैपिटल इंवेस्टमेंट्स एलएस थे।



Supply hyperlink

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *